उच्चतम न्यायालय ( Supreme Court) की जानकारी


    उच्चतम न्यायालय ( Supreme Court)


supreme Court ki jankari

➥ भारतीय संविधान के अनुच्छेद 124 में उच्चतम न्यायालय का वर्णन है
➥ उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश तथा अन्य न्यायाधीश होते हैं।
➥ न्यायाधीश की संख्या में समय- समय और संसद के द्वारा बढ़ाई या घटाई जा सकती है।
➥ उच्चतम न्यायालय देश का तथा संसद का अंतिम तथा बड़ा न्यायालय होता है।
➥ इसकी फैसला सभी के लिए मान्य होता है।
➥ यह एक अभिलेख न्यायालय है इसके सारे निर्णय रिकॉर्ड किए जाते जाते है।
➥ वर्तमान में उच्चतम न्यायालय मे मुख्य न्यायाधीश तथा एक अन्य न्यायाधीश कुल न्यायाधीशों की संख्या 31 होता है।

⚫ उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश बनने की योग्यता:-

➥  वह भारत का नागरिक हो
➥  वह 65 वर्ष से कम उम्र का हो ।
➥ वह राष्ट्रपति के नजर में कानून का ज्ञाता हो।
➥ वह लगातार 10 वर्षों तक उच्च न्यायालय में न्यायाधीश रह चुका हो।

नियुक्ति :-

➥ उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश तथा अन्य न्यायाधीशों की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है।
Note:- अन्य न्यायाधीशों की नियुक्ति करने से पहले राष्ट्रपति उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश अनिवार्य रूप से सलाह लेता लेता है।

शपथ  :-

➥ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को राष्ट्रपति के द्वारा शपथ दिलाई जाती है और अन्य न्यायाधीशों को उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश द्वारा शपथ दिलाई जाती है।

वेतन:-

➥ उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश तथा अन्य न्यायाधीश का वेतन भारत की संचित निधि से ही जाती है।
➥ मुख्य न्यायाधीश का वेतन 110000 होता है।
➥ मुख्य न्यायाधीश का वेतन, भत्ता, पेंशन का निर्धारण संसद द्वारा किया जाता है।

⚫ कार्यकाल  :-

➥ उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश तथा अन्य न्यायाधीश 65 वर्ष की उम्र तक अपने पद पर बने रहते हैं परंतु कोई भी न्यायाधीश अपनी इच्छा से राष्ट्रपति को त्याग- पत्र सौंपकर अपने पद से मुक्त हो सकता है।

इसे भी पढ़ें

Note :- संसद द्वारा 2/3 बहुमत से पारित प्रस्ताव के आधार पर राष्ट्रपति द्वारा उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीशों को हटाया जा सकता है परंतु यह प्रस्ताव तभी पारित होगा जब उनके ऊपर का आरोप माहाचार या भ्रष्टाचार में शामिल होगा।

⚫ उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों का कार्य अधिकार एवं शक्ति :-

1) परामर्श दात्री अधिकार :- अनुच्छेद 143 के तहत उच्चतम न्यायालय राष्ट्रपति न्यायालय राष्ट्रपति के परामर्श मांगने पर सलाह दे सकता है या नहीं भी दे सकता है। यदि उच्चतम न्यायालय सलाह दे भी दे भी दिया तो उस सलाह को स्वीकार करने के लिए राष्ट्रपति बाध्य नहीं है।

2) आरंभिक अधिकार  :- अनुच्छेद 131 के तहत उच्चतम न्यायालय को कई प्रकार के आरंभिक अधिकार दिए गए हैं। जैसे:-

a.) एक तरफ भारत संघ तथा दूसरी तरफ बाकी भारत के सभी राज्य हो। 1और उनके बीच कोई विवाद उत्पन्न हो तो ऐसा समस्याओं का समाधान करने का अधिकार उच्चतम न्यायालय को है।

b.) एक तरफ भारत संघ तथा कुछ राज्य एवं दूसरी तरफ बाकी भारत के राज्य हो तो उनके बीच कोई विवाद होता है तो ऐसे नियमों का उपचार उच्चतम न्यायालय में होता है।

c.) भारत के विभिन्न राज्यों के बीच उत्पन्न विवाद को हल करने का अधिकार उच्चतम न्यायालय का है।

d.) यदि भारत के कोई संवैधानिक समस्या उत्पन्न हो जाए या  कानूनी समस्या उत्पन्न हो जाए तो ऐसी समस्या का समाधान उच्चतम न्यायालय द्वारा होता है।


Note :- उच्चतम न्यायालय अनुच्छेद 32 के तहत किसी व्यक्ति के मूल अधिकारों का उल्लंघन होने पर उनकी रक्षा के लिए उच्चतम न्यायालय पांच प्रकार का आदेश का आदेश जारी करता है यह अधिकार भी आरंभिक अधिकार के तहत ही दिया गया है।

➥ अनुच्छेद 32 को संविधान का आत्मा भी कहा जाता है। संविधान का आत्मा अनुच्छेद 32 को भीमराव अंबेडकर ने कहा था।

3) अपीलीय अधिकार:-  उच्च न्यायालय देश का सबसे बड़ा अपीलीय न्यायालय है। अतः उसे नीचे के न्यायालय के न्यायालय के निर्णय के विरुद्ध अपील सुनाने का अधिकार प्राप्त है।

4) उच्चतम न्यायालय को दीवानी और फौजदारी दोनों मामलों में नीचे के न्यायालय के विरुद्ध अपनी फैसला सुनाने का अधिकार प्राप्त है।

दीवानी :- संपति संबंधित विवाद।

फौजदारी :- हत्या, मार-काट, बलात्कार इत्यादि।

5) अधीक्षण संबंधी अधिकार:-  उच्चतम न्यायालय को नीचे के सभी न्यायालयों को जांच करने, निर्देश देने या उन्हें नियंत्रित करने का अधिकार प्राप्त है

➥ उच्चतम न्यायालय के प्रथम मुख्य न्यायाधीश हीरालाल जेकानिया थे।
➥ उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश बनने वाली पहली महिला एम. खतीमा बीवी (मीरा साहब) थी।
➥ उच्च न्यायालय के सबसे अधिक दिन तक मुख्य न्यायाधीश रहने वाले वायवी चंद्रचूड़ थे।
➥ एम. हिदायत तुला खांँ पहला उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जो कार्यवाहक राष्ट्रपति के रूप में कार्य किए थे।
➥ वर्तमान में उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा है।

0 komentar